सत्याग्रह करते हुए जायेंगे सोनिया राहुल ईडी के दफ्तर : पायलट

देश—विदेश

लखनऊ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को नेशनल हेराल्ड मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा भेजे गये नोटिस को राजनैतिक दुर्भावना से कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को अपमानित करने के षडयंत्र का नतीजा बताते हुए कहा कि दोनों नेता सोमवार को अन्य पार्टी नेताओं के साथ सत्याग्रह पदयात्रा कर ईडी के दफ्तर जायेंगे। राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री पायलट (Former Deputy Chief Minister of Rajasthan Pilot) ने रविवार को यहां प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि आजादी के आंदोलन की आवाज नेशनल हेराल्ड न्यूज पेपर (national herald news paper) और कांग्रेस अलग नहीं है। आजादी के संघर्ष में योगदान देने और अंग्रेजी हुकूमत को जड़ से उखाड़ने के लिए नेशनल हेराल्ड न्यूज पेपर की शुरूआत हुई थी। ऐसोसिएटेड जनरल लिमिटेड कंपनी ने इसका प्रकाशन किया।

पायलट ने इस प्रकरण की पृष्ठभूमि बताते हुए कहा कि पंडित जवाहर लाल नहेरू, सरदार पटेल, आचार्य नरेन्द्र देव, रफी अहमद किद्वई (Pandit Jawaharlal Nehru, Sardar Patel, Acharya Narendra Dev, Rafi Ahmed Kidwai) और अनेक देशभक्तों के सानिध्य में इस समाचार पत्र को 1937 में आरंभ किया गया था। अंग्रेजों को इस अखबार से इतना खतरा महसूस हुआ कि ब्रिटिश हुकूमत ने कांग्रेस द्वारा चलाये गये “भारत छोड़ो” आंदोलन के समय 1942 से 1945 तक इस अखबार को बंद करवा दिया था। उन्होंने कहा कि आज फिर उस समय की अंग्रेजी हुकूमत का समर्थन करने वाली विचारधारा ‘आज़ादी के आंदोलन की इस आवाज़’ को दबाने का घिनौना षडयंत्र कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस षडयंत्र के मुखिया स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं और ईडी (PM is Narendra Modi and ED) उनका हथियार है। पायलट ने बताया कि इस फर्जी और षड़यंत्रकारी मामले को लेकर पूरे देश में कांग्रेसजनों में आक्रोश का माहौल व्याप्त है।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments