35वां हुनर हाट में स्वदेशी दस्तकारी, शिल्पकारी, पारंपरिक पकवान की विरासत का संगम

नई दिल्ली। हुनर हाट देश की स्वदेशी दस्तकारी, शिल्पकारी कि विरासत की प्रगति का परफेक्ट प्रकल्प है। 35वां हुनर हाट (Hunar Haat) विश्वकर्मा विरासत के विकास का महत्वपूर्ण माध्यम बन गया है। मोदी सरकार के नेतृत्व में देश की हुनर की विरासत को नई उर्जा, साथ ही मौका मार्केट भी मुहैया कराया जा रहा है। यह केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने वीरवार को जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में 35वें हुनर हाट के उद्घाटन के अवसर पर कही।

इस अवसर पर केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय विदेश व सांस्कृतिक राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी भी उपस्थित रहीं। 14 दिन तक चलने वाले इस हुनर हाट में 30 से अधिक राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के 700 से ज्यादा दस्तकार, शिल्पकार, कारीगर एवं पारंपरिक पकवानों के उस्ताद भाग ले रहे हैं। नकवी ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में हुनर हाट ने करीब 7 लाख 50 हजार से अधिक कारीगरों, शिल्पकारों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान किए हैं।

जिसमें 40 फीसद से अधिक महिलाएं हैं। हुनर हाट में विश्वकर्मा वाटिका (Viswakarma Vatika), मेरा गांव मेरा देश (mera gav mera desh), बावर्चीखाना (Bawachikhana) सेक्शन में 40 लोगों की तीन टीम व्यवस्था में लगी है। जिसमें देश के विभिन्न क्षेत्रों के पारंपरिक पकवान हिंदुस्तान के हर क्षेत्र के जायके का मजा दे रहे हैं।

हुनर हाट उद्घाटन के मौके पर सांसद डॉ. हर्षवर्धन, हंसराज हंस, मनोज कुमार तिवारी, रमेश विधूड़ी, प्रवेश साहिब सिंह मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। इसके अलावा हुनर हाट में पंकज उदास, अल्ताफ राजा, दलेर मेहदी, सुरेश वाडेकर, सुदेश भोंसले, कविता कृष्णमूर्ति, अमित कुमार, मनोज तिवारी, पवन सिंह, भूमि त्रिवेदी, मोहित खन्ना, जसवीर जस्सी, प्रिया मलिक, रेखा राज समेत कई कलाकार भाग ले रहे हैं। विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अभिनेता पुनीत इस्सर आदि द्वारा महाभारत का मंचन हाट का मुख्य आकर्षण है।

Related Articles

Back to top button